** मनसा वाचा कर्मणा** एक प्रगतिशाल चिंतन के लिए जरुरी है – विरोध ! ! अगर आपका विरोध नहीं हो रहा तो, तो शायद आप किसी कार्य में प्रगतिशील नहीं है – लोग आपका आकलन करते, मतलब आपने कुछ ऐसा प्रयास किया है जो आकलन योग्य है ! बिना विरोध जरत्व आ जाता आपकी जिंदगी […]